11.3 C
New York
Sunday, April 14, 2024

Buy now

spot_img

रक्षा बंधन उत्सव | 2023 Raksha Bandhan Shubh Muhurat And Timings

अगर आप 2023 के Raksha Bandhan का Shubh Muhurat And Timings जानना चाहते हैं तो आप को इस लेख में सारी जानकारी पंचांग के अनुसार सही-सही मिल जाएगी।

रक्षा बंधन, एक महत्वपूर्ण हिंदू त्योहार है, जो भाई-बहन के अटूट प्रेम को मनाता है। यह दिन है जब बहनें अपने प्यार और देखभाल के प्रतीक रूप से अपने भाइयों की कलाई पर एक पवित्र धागा, जिसे “राखी” कहते हैं, बांधती हैं।

हिन्दू संस्कृति में यह त्योहार एक विशिष्ट स्थान रखता है क्योंकि यह परिवार के महत्व को बढ़ावा देता है और भाई-बहन के बीच विशेष बंधन को प्रोत्साहित करता है।

Table of Contents

2023 Raksha Bandhan Shubh Muhurat And Timings

DateWednesday, August 30, 2023
Thread Ceremony Time | राखी बांधने की रस्म का समयAfter 09:01 PM on 30th August से 7:05 AM on 31st August
Rakhi Ka Shubh Muhurat10:58 AM on Wednesday, 30th August से 07:05 AM on Thursday, 31st August.
Bhadra End Time (अंत समय)बुद्धवार रात 9:01 PM
Bhadra Punchha05:30 PM to 06:31 PM तक
Bhadra Mukha06:31 PM to 08:11 PM तक
Raksha Bandhan Shubh Muhurat And Timings for 2023

राखी बांधने का शुभ मुहूर्त | 2023 Me Rakhi Bandhne Ka Sahi Samay Kya Hai?

इस वर्ष हिन्दू पंचांग के अनुसार रक्षाबंधन का पर्व 30 और 31 अगस्त को आयोजित किया जा रहा है, जिसका मतलब दो दिनों तक मनाया जाएगा। 30 अगस्त को भद्रा काल की वजह से राखी बांधने का शुभ मुहूर्त रात 9:02 बजे से अगले दिन, यानी 31 अगस्त 2023, की सुबह 7:05 बजे तक रहेगा।

रक्षाबंधन दिन के समय ही मनाया जाता है इसलिए राखी बांधने का सबसे अच्छा समय 31st अगस्त सुबह 5 बजे से 7.05 बजे तक है। अगर इस समय किसी वजह से रक्षा बंधन नहीं मना सकते तो फिर 30 अगस्त रात 9.02 बजे से सुबह 7.05 तक किसी भी समय मना सकते है

हिन्दू पंचांग के अनुसार जिस भी शुभ मुहूर्त को दिया जाता है, उसी को राखी बांधने के लिए सर्वोत्तम मानकर उपयोग किया जाता है। शुभ मुहूर्त में राखी बांधने से अच्छे परिणाम मिलते हैं।

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार भद्राकाल में राखी बांधना वर्जित है, लेकिन इस वर्ष राखी बांधने का शुभ समय रात का है, इसका मतलब है कि राखी रात में भी बांधी जा सकती है।

भद्रा क्या है? भद्रा के समय कोई सुबह काम या त्यौहार मानना चाहिए या नहीं ? Bhadra Kya Hai Aur Bhadra Me Raksha Bandhan Manana Chaahiye?

“भद्रा मुहूर्त” ज्योतिष और हिन्दू परंपराओं में एक ऐसा मुहूर्त होता है जो भद्रा नक्षत्र के प्रभाव के कारण अशुभ माना जाता है। इस मुहूर्त का प्रयोग शुभ कार्यों के लिए नहीं किया जाता, और विशेष रूप से विवाह, गृहप्रवेश, शुभारंभ आदि के कामों में इसका उपयोग नहीं किया जाता है।

भद्रा मुहूर्त को अशुभ मानकर उसके प्रभाव से बचने के लिए लोग इस मुहूर्त में कोई त्योहार नहीं मनाते हैं। किसी भी प्रकार के पूजा-पाठ, कर्मकांड, व्रत आदि को भद्रा मुहूर्त में नहीं किया जाता है।

यहाँ तक कि कुछ परंपरागत विचारधाराओं में लोग इस मुहूर्त में किसी प्रकार के महत्वपूर्ण काम नहीं करते हैं, ताकि उनके जीवन में किसी प्रकार की अशुभता नहीं आए।

रक्षा बंधन कैसे मनाया जाना चाहिए?

पहले एक प्लेट लें, उसमें रोली, संदलवुड, अक्षत, दही, रक्षा सूत्र और मिठाई रखें। उसके साथ ही देसी घी की दीपक जलाकर पूजा प्लेट तैयार करें और उसे पहले ईश्वर को समर्पित करें।

इसके बाद, भाई को पूर्व या उत्तर की दिशा में बैठाएं। सबसे पहले भाई का तिलक करें, फिर रक्षा सूत्र बांधने के बाद, आरती करें।

इसके बाद, उसे मिठाई खिलाकर उसकी शुभकामनाएँ दें। यहाँ ध्यान रखने की बात है कि भाई और बहन के सिर को रक्षा सूत्र बांधने के समय सर को ढककर रखना चाहिए और रक्षा सूत्र बांधने के बाद, माता-पिता और गुरु का आशीर्वाद लें।

इसके बाद, आपको अपनी सामर्थ्यानुसार अपनी बहन को उपहार देना चाहिए।

उत्पत्ति और पौराणिक महत्व

रक्षा बंधन का इतिहास बहुत पहले से है और कई पौराणिक कथाओं में इसका उल्लेख है। श्रीकृष्ण और द्रौपदी सबसे प्रसिद्ध कहानियों में से हैं। श्रीकृष्ण को एक बार चोट लगी जब द्रौपदी ने उनकी उंगली पर अपनी साड़ी का टुकड़ा बांध दिया।

उस प्यार से प्रभावित होकर श्रीकृष्ण ने उनकी रक्षा करने का निश्चय किया, और द्रोपदी चीर हरण के दौरान, श्रीकृष्ण बार-बार ने द्रोपदी की साड़ी को बढ़ाकर उनकी प्रतिष्ठा बचाई। यह कहानी त्योहार के संरक्षक पक्ष को दिखाती है और भाई को अपनी बहन की रक्षा करने के लिए प्रेरित करती है

धर्म और परंपराएँ

Raksha bandhan muhurat 2023
Raksha bandhan muhurat 2023

हिन्दू पंचांग के अनुसार, रक्षा बंधन श्रावण की पूर्णिमा पर मनाया जाता है। इस दिन बहनें अपने भाइयों की कलाई पर राखी बांधती हैं, जो शुभ संकेत है। इस समारोह में प्रार्थना के मंत्र पढ़े जाते हैं और दिल से शुभकामनाएँ दी जाती हैं। भाई अपनी बहनों को उपहार देते हैं, प्यार और प्रशंसा का प्रतीक।

राखी की प्रतीकता

राखी केवल एक आभूषण नहीं है; इसमें हिंदू संस्कृति की गहरी जड़ें दिखाई देती हैं। यह उनके भाई की सुरक्षा के लिए बहन के प्यार और देखभाल का प्रतीक है। इसके अलावा, यह भाई की बहन को सभी दृष्टिकोणों से बचाने के लिए उसकी लगन का भी प्रतीक है। यह धागा उनके जीवन भर के समर्थन और संबंध की याद दिलाता है।

सामाजिक और धार्मिक महत्व

रक्षा बंधन आवश्यकता से अधिक आध्यात्मिक महत्व रखता है। हिंदू ज्योतिष के अनुसार, चंद्रमा की ऊर्जा प्रेम को बढ़ाती है, और बहनें राखी बांधकर अपने भाइयों से दिव्य आशीर्वाद मांगती हैं। यह त्योहार भी सामाजिक मूल्यों को मजबूत करता है और समृद्धि में परिवारिक संबंधों को मजबूत करता है, जो समाज की बुनियाद हैं।

आज के संविधान में समावेशिता

रक्षा बंधन आज बहुत से संबंधों को शामिल करता है। अब यह बियोलॉजिकल भाइयों की सीमा से बाहर है; राखी की विनम्रता के रूप में दोस्तों, चचेरे भाई-बहनों और पड़ोसियों के बीच बदल जाता है। यह बदलाव त्योहार को बदलने और संरक्षण और प्यार के मूल्यों को बचाने की क्षमता दिखाता है।

रक्षा बंधन का महत्व

हिन्दू संस्कृति में रक्षा बंधन का महत्वपूर्ण स्थान है, जो भाई-बहन के प्रेम और सहयोग को मनाने का एक खास अवसर प्रदान करता है। यह एक पवित्र रिश्ता है जो परिवार में आपसी समर्थन और स्नेह की महत्वपूर्णता को दिखाता है।

हिंदू पंचांग के अनुसार, यह त्योहार श्रावण मास की पूर्णिमा पर मनाया जाता है। इस दिन बहनें अपने भाइयों की कलाई पर राखी बांधकर उनके उपकरण की ओर संकेत करती हैं।

2023 raksha bandhan muhurat and timing
2023 raksha bandhan muhurat and timing

यह धागा उनके प्यार और देखभाल की भावना को भी दिखाता है, साथ ही उनकी प्रतिज्ञा भी छिपी है कि वह अपनी बहन की रक्षा करेंगे और उसके साथ हमेशा खड़े रहेंगे।

आध्यात्मिक दृष्टिकोण से, रक्षा बंधन वह समय है जब चंद्रमा की ऊर्जा अधिक होती है और उसकी कृपा से संबंध मजबूत होते हैं। यह एक परिवार में एकता की भावना को मजबूती देता है और आपसी समर्थन को बढ़ावा देता है, जो समाज का आधार है।

इसके साथ ही, एक सामाजिक दृष्टिकोण से रक्षा बंधन महत्वपूर्ण है। यह भाई-बहन के प्यार और समर्थन की महत्वपूर्णता को साझा करने का माध्यम है, जिससे समाज के मूल्यों का पालन किया जा सकता है।

रक्षा बंधन की परिभाषा आज बदल गई है और दोस्तों, चचेरे भाई-बहनों और पड़ोसियों तक शामिल हो गई है। यह त्योहार समरसता, सामर्थ्य और परिवारिक एकता की महत्वपूर्णता को प्रकट करता है और समाज के विकास में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

रक्षा बंधन के सम्बन्ध में कुछ जरूरी प्रश्न और उत्तर

प्रश्न : 2023 में रक्षा बंधन किस दिन मनाया जाएगा?

उत्तर: 2023 में, हिन्दू पंचांग के अनुसार रक्षाबंधन का पर्व 30 और 31 अगस्त को आयोजित किया जा रहा है, जिसका मतलब दो दिनों तक मनाया जाएगा। 30 अगस्त को भद्रा काल की वजह से राखी बांधने का शुभ मुहूर्त रात 9:02 बजे से अगले दिन, यानी 31 अगस्त 2023, की सुबह 7:05 बजे तक रहेगा।

प्रश्न : 2023 में रक्षा बंधन का शुभ मुहूर्त कब होगा?

उत्तर: रक्षा बंधन का शुभ मुहूर्त 30 अगस्त को सुबह 10:58 बजकर से लेकर 31 अगस्त की सुबह 07:05 बजकर तक रहेगा। लेकिन भद्रा काल की वजह से राखी बांधने का शुभ मुहूर्त रात 9:02 बजे से अगले दिन, यानी 31 अगस्त 2023, की सुबह 7:05 बजे तक रहेगा।

प्रश्न : रक्षा बंधन के दिन राखी बांधने का सही समय क्या होगा?

उत्तर: रक्षा बंधन के दिन, 30 अगस्त की रात्रि 09:01 बजकर से लेकर 31 अगस्त की सुबह 07:05 बजकर तक राखी बांधने की रस्म का समय रहेगा। रक्षा बंधन को दिन में मनाया जाता है इसलिए राखी बांधने का सबसे अच्छा समय 31st अगस्त सुबह 5 बजे से 7. 05 बजे तक है।

प्रश्न : 2023 में रक्षा बंधन के दिन भद्रा का अंत कब होगा?

उत्तर: भद्रा का अंत 30 अगस्त 2023 की रात्रि 09:01 बजे तक होगा।

प्रश्न : 2023 में भद्रा मुख कब होगा?

उत्तर: भद्रा मुख 30 अगस्त की शाम 06:31 बजकर से लेकर 08:11 बजकर तक रहेगा।

निष्कर्ष

इस आर्टिकल में हमने 2023 में Raksha Bandhan Shubh Muhurat And Timings ड्रिक पंचांग के अनुसार दिए है । रक्षा बंधन बहन और भाई के बीच दृढ़ और अटूट संबंध की याद दिलाता है। यह संरक्षण, प्यार और एकता के मूल सिद्धांतों की प्रशंसा करता है, जो मजबूत परिवारिक संबंधों का निर्माण करते हैं।

रक्षा बंधन की पवित्र धागा भाई की सुरक्षा और बहन के अपरिहार्य प्रेम का लाइफलांग प्रतिज्ञा है। यह प्राचीन परंपरा में मूल्यवान था, लेकिन आज यह भाई-बहन के बीच के रोचक और रोमांचक संबंध की मजबूत और रोचक जड़ों की पुष्टि करता है।

इस आर्टिकल को अपने रिश्तेदारों, मित्रो और सहयोगियों को Whatsapp, Facebook आदि पर जरूर शेयर करें ताकि रक्षाबंधन की संपूर्ण जानकारी उनको भी मिल सके

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

0FansLike
0FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -spot_img

Latest Articles