27.3 C
New York
Sunday, July 14, 2024

Buy now

spot_img

10 Lines Short Stories With Moral In Hindi | लघु कहानियाँ

10 Lines Short Stories With Moral In Hindi लोकप्रिय और महत्वपूर्ण हैं क्योंकि वे बच्चों को महत्वपूर्ण जीवन के पाठ मज़ेदार और आकर्षक तरीके से सिखाती हैं। ये कहानियाँ बच्चों की सोच और समस्या-समाधान कौशल, सहानुभूति और करुणा, और साक्षरता कौशल को विकसित करने में भी मदद करती हैं।

उदाहरण के लिए, कौवा और घड़े की कहानी बच्चों को दृढ़ता और समस्या-समाधान का महत्व सिखाती है। बिल्ली और चूहे की कहानी बच्चों को मुश्किल परिस्थितियों से बाहर निकलने के लिए अपनी बुद्धि और चतुराई का उपयोग करने का महत्व सिखाती है। लालची कुत्ते की कहानी बच्चों को लालच के खतरों के बारे में सिखाती है। शिक्षक और छात्र की कहानी बच्चों को प्रश्न पूछने और ज्ञान प्राप्त करने के महत्व के बारे में सिखाती है।

पूर्ण रूप से, हिंदी कहानियाँ बच्चों के लिए एक जरूरी और मूल्यवान साधन हैं। कहानियाँ बच्चों को उनके व्यक्तिगत और शैक्षिक विकास में मदद करती हैं।

और कहानी पढ़ें

लालची किसान का सबक | Lalchi Kisaan New Moral Story

भेड़िये और सारस की कहानी | Bhedia Aur Saras Ki Kahani

बत्तख और सुनहरे अंडे | The Goose And The Golden Eggs

जादुई लहंगा और दुष्ट चुड़ैल | Jadui Lehenga Aur Dusht Chudail

सब से अच्छी10 Lines Short Stories With Moral In Hindi

हम इस आर्टिकल में बच्चों की छोटी चुनिंदा कहानियां ले कर आये हैं जो ज्ञानवर्धक भी हैं और मजेदार भी हैं बच्चों को इन्हे पढ़कर बहुत मजा आएगा और कहानियां पढ़कर कुछ सीख भी मिलेगी।

बिल्ली और चूहा | Short Story of Cat & Mouse

Cat and the Mouse
Cat and the Mouse

एक बार एक बिल्ली और एक चूहा एक ही घर में रहते थे। बिल्ली चूहे को पकड़कर खा जाना चाहती थी,

लेकिन चूहा बहुत चालाक था और बिल्ली से बच जाता था।

एक दिन, बिल्ली ने चूहे को पकड़ लिया। चूहे ने अपनी जान बचाने के लिए बिल्ली से कहा,

“मैं तुम्हें बहुत स्वादिष्ट लगूंगा, लेकिन अगर तुम मुझे आज छोड़ दो तो मैं तुम्हें तीन कहानियां सुनाऊंगा।”

बिल्ली को कहानियां सुनना बहुत पसंद था, इसलिए उसने चूहे को छोड़ दिया।

चूहे ने बिल्ली को तीन ऐसी कहानियां सुनाईं, जो बिल्ली को इतनी ज्यादा पसंद आईं कि वह हंस-हंस कर लोटने लगी।

चूहे ने इस मौके का फायदा उठाया और भाग गया।

सीख:

बुद्धि और चतुराई से किसी भी मुश्किल से निकल सकते हैं।

लालची कुत्ता

लालची कुत्ता
लालची कुत्ता

एक बार एक कुत्ता एक हड्डी को मुँह में लेकर नदी के किनारे जा पहुंचा।

उसने उस हड्डी को नदी के किनारे रख दिया और नदी में पानी पीने लगा।

नदी में पानी पीते हुए उसने देखा कि पानी में उसकी हड्डी की परछाई है।

कुत्ते को लगा कि यह एक और हड्डी है।

उसने अपनी हड्डी को छोड़ दिया और पानी में उस हड्डी को पकड़ने के लिए कूद गया।

लेकिन पानी में कोई हड्डी नहीं थी।

कुत्ता वापस आया, लेकिन एक दूसरा कुत्ता उस हड्डी को लेकर चला गया।

कुत्ता अपनी हड्डी को न पाकर बहुत दुखी हुआ।

सीख:

लालच करने से हमेशा नुकसान होता है।

शिक्षक और विद्यार्थी

एक बार एक शिक्षक ने अपने विद्यार्थियों से कहा, “जो भी छात्र मुझे एक ऐसा सवाल पूछेगा, जिसका जवाब मैं नहीं दे पाऊंगा, मैं उसे एक रुपया दूंगा।”

एक विद्यार्थी ने हाथ उठाया और कहा, “गुरुजी, कल आपने कहा था कि ईश्वर सर्वशक्तिमान हैं।

क्या वह एक पत्थर बना सकते हैं, जो इतना भारी हो कि वह उसे भी नहीं उठा सकें?”

शिक्षक को इस सवाल का जवाब नहीं मिला। उसने एक रुपया विद्यार्थी को दिया और कहा, “बेटा, तुमने मुझे एक बहुत अच्छा सवाल पूछा है।”

सीख:

हमेशा सीखने की कोशिश करनी चाहिए। कोई भी सवाल छोटा नहीं होता है।

“योद्धा की गाड़ी” | Short Moral Story Warrior’s Car

Short Moral Story Warrior's Car
Short Moral Story Warrior’s Car

एक छोटे से गाँव में एक पुराना वृक्ष खड़ा था, जिसे सभी गाँव वाले मानते थे कि यह किसी की भी जिंदगी को बचा सकता है।

एक दिन, गाँव के एक बच्चे ने वृक्ष की छाया में खेलते समय एक योद्धा की गाड़ी को देखा, और उसने वृक्ष के नीचे अपनी गाड़ी को छोड़ दिया।

बच्चे ने उस गाड़ी को नहीं देखा और उसने गाड़ी को अपने बल्ले से पीटा दिया, जिससे गाड़ी टूट गई। योद्धा ने अपनी गाड़ी को टूटी हुई देख लिया और उसके पास आकर गुस्से में बोला, “तुमने मेरी गाड़ी को कैसे तोड़ दिया!”

बच्चे के पिता ने उसके आवाज को सुना और तत्काल योद्धा के सामने आये। पिता ने योद्धा से माफी मांगी और उसकी गाड़ी का मूल्य चुकाई।

योद्धा ने माफी कबूल की और समझाया कि वह गाँव के लोगों के लिए वृक्ष के पास अपनी गाड़ी को छोड़ देता है, जिससे किसी की भी जिंदगी को बचाया जा सकता है।

कहानी की सीख | Moral of the story Warrior’s Car

मोरल: इस कहानी से हमें यह सिखने को मिलता है कि हमें दूसरों की संपत्ति का सही उपयोग करना चाहिए और यह भी सिखना चाहिए कि हमें दूसरों के साथ सही तरीके से व्यवहार करना चाहिए, चाहे हमारी गलती हो या किसी और की।

हमें चीजों का सही उपयोग करना चाहिए और दूसरों की संपत्ति का सम्मान करना चाहिए।

और कहानी पढ़ें

लालची किसान का सबक | Lalchi Kisaan New Moral Story

भेड़िये और सारस की कहानी | Bhedia Aur Saras Ki Kahani

बत्तख और सुनहरे अंडे | The Goose And The Golden Eggs

जादुई लहंगा और दुष्ट चुड़ैल | Jadui Lehenga Aur Dusht Chudail

“सच्चे मित्र” | Short Moral Story True Friends

Short Moral Story True Friends
Short Moral Story True Friends

गाँव में रहने वाले दो छोटे दोस्त, राजू और अमित, दूसरे के लिए सच्चे मित्र थे। वे हमेशा एक साथ खेलते थे, और उनकी दोस्ती में एक खास जजबा था। एक दिन, राजू ने एक नया खिलौना खरीदा और उसके साथ गर्मी के दिनों में खूबसूरत खेल खेलने लगा।

लेकिन एक दिन, वो खिलौना गुम हो गया। राजू बहुत दुखी हो गया और वह खिलौने की तलाश में गाँव के चरणों में चल पड़ा। अमित ने उसकी परेशानी देखी और उसके पास गया।

अमित ने कहा, “दोस्त, हम इसे साथ मिलकर खोजेंगे, और हमें यकीन है कि हम इसे ढूंढ़ सकेंगे।” वे मिलकर खोजने निकले और कुछ ही समय में उन्होंने खिलौने को पाया।

राजू खुशी-खुशी उसे गले लगाकर धन्यवाद दिया और दोनों दोस्त खुशियों से वापस घर लौटे।

कहानी की सीख | Moral of the story

यह कहानी हमें यह सिखाती है कि सच्चे मित्र हमारे जीवन में महत्वपूर्ण होते हैं और वे हमारे साथ खुशियों और मुश्किलों में साथ देने के लिए हमेशा तैयार रहते हैं। वे हमारे जीवन को सजीव और खुशीपूर्ण बनाते हैं और हमें साथ जीने की महत्वपूर्ण बात सिखाते हैं।

कौवा और घड़ा

The thirsty crow story in Hindi
The thirsty crow story in Hindi

एक बार एक कौवा बहुत प्यासा था। उसने एक घड़ा देखा, जिसमें थोड़ा सा पानी था।

कौवे ने अपनी चोंच को पानी तक पहुंचाने की कोशिश की, लेकिन घड़ा बहुत गहरा था।

कौवा ने बहुत कोशिश की, लेकिन वह पानी तक नहीं पहुंच सका।

तभी कौवे को एक विचार आया। उसने घड़े में पास में पड़े हुए कुछ कंकड़ डाल दिए।

जैसे-जैसे कंकड़ घड़े में डाले जाते गए, पानी का स्तर ऊंचा होता गया।

आखिरकार, पानी कौवे की चोंच तक पहुंच गया और वह पानी पीने लगा।

सीख:

बुद्धि और समझ से किसी भी समस्या का समाधान पाया जा सकता है।

खरगोश और कछुआ

खरगोश और कछुआ
खरगोश और कछुआ

एक बार एक खरगोश और एक कछुआ दौड़ लगाने का फैसला किया।

खरगोश बहुत तेज़ था और उसने सोचा कि वह आसानी से जीत जाएगा।

इसलिए, उसने दौड़ शुरू करने के कुछ ही समय बाद आराम करना शुरू कर दिया।

कछुआ बहुत धीमा था, लेकिन वह लगातार चलता रहा। खरगोश ने सोचा कि कछुआ कभी नहीं जीत पाएगा, इसलिए वह सो गया।

जब खरगोश उठा, तो उसने देखा कि कछुआ फिनिश लाइन के करीब है।

उसने तेज़ी से दौड़ना शुरू किया, लेकिन बहुत देर हो चुकी थी। कछुआ दौड़ जीत गया।

सीख: धीमी और स्थिर दौड़ जीतती है।

लोमड़ी और अंगूर

लोमड़ी और अंगूर
लोमड़ी और अंगूर

एक बार एक लोमड़ी को एक अंगूर की बेल दिखाई दी।

अंगूर बहुत ऊँचे थे और लोमड़ी उन तक नहीं पहुँच पा रही थी।

उसने बहुत कोशिश की, लेकिन वह अंगूर तक नहीं पहुँच सकी।

अंत में, लोमड़ी ने हार मान ली और कहा, “वैसे भी, वे खट्टे होंगे।”

सीख:

जिसे हासिल नहीं कर सकते, उसे प्राप्त करने का प्रयास करते समय निराश होने और उसे नीचा दिखाने के बजाय,

उसे प्राप्त करने में असमर्थता को स्वीकार करना बेहतर है।

किसान और सोने के अंडे देने वाली मुर्गी

The goose and the golden eggs
The goose and the golden eggs

एक बार एक किसान के पास एक मुर्गी थी जो सोने के अंडे देती थी।

किसान बहुत खुश था और हर दिन वह एक सोने का अंडा लेने के लिए घोंसले में जाता था।

एक दिन, किसान को लगा कि अगर वह मुर्गी के पेट को चीर दे तो उसे सभी सोने के अंडे एक साथ मिल जाएंगे।

उसने मुर्गी के पेट को चीर दिया, लेकिन उसे कोई सोने का अंडा नहीं मिला।

मुर्गी मर गई और किसान को कुछ भी नहीं मिला।

सीख:

लालच करना अच्छा नहीं होता है। संतुष्ट रहना चाहिए।

पिता और पुत्रों का बगीचा

पिता और पुत्रों का बगीचा
पिता और पुत्रों का बगीचा

एक बार एक बूढ़े आदमी के पास एक बहुत बड़ा बगीचा था। उसके चार बेटे थे। वह अपने बेटों को बहुत प्यार करता था और चाहता था कि वे उसकी मृत्यु के बाद एक साथ रहें और बगीचे की देखभाल करें।

बूढ़े आदमी की मृत्यु के बाद, उसके बेटे बगीचे में काम करने लगे। लेकिन वे एक साथ नहीं रह सके। वे हर दिन लड़ते थे और बगीचे की देखभाल नहीं करते थे।

कुछ ही समय में, बगीचा बर्बाद हो गया और भाइयों को कुछ नहीं मिला।

सीख:

मिलजुलकर रहने से ताकत आती है।

दोस्त और भालू

दोस्त और भालू
दोस्त और भालू

एक बार दो दोस्त जंगल से गुज़र रहे थे। रास्ते में उन्हें एक भालू दिखाई दिया। एक दोस्त तो पेड़ पर चढ़ गया, लेकिन दूसरा दोस्त पेड़ पर नहीं चढ़ सका।

वह जमीन पर ही लेट गया और साँस लेना बंद कर दिया। भालू आया और उसे सूँघा। उसे लगा कि वह मर चुका है, इसलिए वह चला गया।

जब भालू चला गया, तो दूसरा दोस्त पेड़ से नीचे उतर आया। उसने अपने पहले दोस्त से पूछा, “भालू ने तुम्हारे कान में क्या कहा?”

पहले दोस्त ने कहा, “भालू ने कहा कि नकली दोस्तों से सावधान रहना।”

सीख:

सच्चे दोस्त मुश्किल समय में साथ देते हैं।

निष्कर्ष


ऊपर दी गयी 10 Lines Short Stories With Moral In Hindi कहानियां बच्चो को सरलता से जीवन जीने की शिक्षा सीखा देती है और माँ-बाप को अपने बच्चों के और करीब लाती है और आपसी ट्रस्ट को भी मजबूत करती है।

इसलिए माता-पिता को जरूर बच्चों को कहानियां पढ़कर सुननी चाहियें ताकी बच्चों को शिक्षा भी मिल जाए और उनके साथ प्यार का सम्बन्ध भी हमेशा बना रहे।

और कहानी पढ़ें  

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

0FansLike
0FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -spot_img

Latest Articles