15.4 C
New York
Thursday, May 16, 2024

Buy now

spot_img

इज़राइल-हमास संघर्ष दूसरे दिन में प्रवेश, इसराइल का ग़ज़ा पट्टी में जबरदस्त पलटवार

अंतर्राष्ट्रीय समुदाय से युद्ध विराम की अपील के बावजूद इज़राइली सेना और हमास के आतंकवादी अभी भी भयंकर लड़ाई में लगे हुए हैं। संघर्ष शनिवार, 7 अक्टूबर, 2023 को शुरू हुआ, जब हमास ने गाजा पट्टी से इज़राइल पर अचानक हमला किया। इज़राइल ने हवाई हमलों और जमीनी हमलों के साथ जवाब दिया, और दोनों पक्ष तब से गोलाबारी कर रहे हैं।

और पढ़ें

इजराइल ने हमास को खत्म करने की कसम खाई

दोनों तरफ मरने वालों की संख्या बढ़ रही है। 9 अक्टूबर, 2023 तक संघर्ष में कम से कम 600 इज़रायली और 232 फ़िलिस्तीनी मारे गए हैं। हजारों अन्य घायल हुए हैं।

लड़ाई ने दोनों तरफ के बुनियादी ढांचे और घरों को व्यापक नुकसान पहुंचाया है। गाजा में, संयुक्त राष्ट्र का अनुमान है कि कम से कम 100,000 लोग अपने घरों से विस्थापित हुए हैं।

इज़राइल-हमास संघर्ष दूसरे दिन
इज़राइल-हमास संघर्ष दूसरे दिन

अंतर्राष्ट्रीय समुदाय ने हिंसा की निंदा की है और दोनों पक्षों से तनाव कम करने का आग्रह किया है। हालांकि, इस बात का कोई संकेत नहीं है कि लड़ाई जल्द ही खत्म होगी।

हमास ने कहा है कि वह तब तक लड़ना जारी रखेगा जब तक कि इज़राइल गाजा पर नाकाबंदी नहीं हटा लेता, जबकि इज़राइल ने तब तक अपने अभियानों को जारी रखने की कसम खाई है जब तक कि हमास को उसके क्षेत्र पर रॉकेट दागने से रोका नहीं जा सकता।

इसराइल का ग़ज़ा पट्टी में जबरदस्त पलटवार
इसराइल का ग़ज़ा पट्टी में जबरदस्त पलटवार

इज़राइल और हमास के बीच संघर्ष दशकों से चल रहा है, और इसका कोई आसान समाधान नहीं है। दोनों पक्षों के बहुत अलग लक्ष्य और आकांक्षाएं हैं, और यह देखना मुश्किल है कि वे कैसे स्थायी शांति समझौते पर पहुंच सकते हैं।

इस बीच, गाजा और इज़राइल के लोग हिंसा से पीड़ित होते रहते हैं। संघर्ष सभी शामिल लोगों के लिए एक त्रासदी है, और यह आवश्यक है कि अंतर्राष्ट्रीय समुदाय इसे जल्द से जल्द समाप्त करने के लिए काम करे।

इसके अलावा भूमि, शरणार्थियों और यरुशलम के मुख्य मुद्दों के अलावा, कई अन्य कारक हैं जो इज़राइल-फिलिस्तीन संघर्ष को प्रभावित करते हैं। इनमें शामिल हैं:

इज़राइल-हमास संघर्ष दूसरे दिन में प्रवेश
इज़राइल-हमास संघर्ष दूसरे दिन में प्रवेश
  • क्षेत्रीय अस्थिरता: मध्य पूर्व एक अस्थिर क्षेत्र है, और इज़राइल और फ़िलिस्तीन के बीच संघर्ष अक्सर अन्य क्षेत्रीय संघर्षों, जैसे कि सीरियाई गृहयुद्ध और यमनी गृहयुद्ध से बढ़ जाता है।
  • बाहरी राजनेताओं की भूमिका: क्षेत्रीय और अंतर्राष्ट्रीय शक्तियों जैसे अमेरिका भारत और यूरोपियन यूनियन के देशों ने इस संघर्ष में हमास के हमले की निंदा करते हुए इसराइल का समर्थन किया है और कुछ मुस्लिम देश जैसे टर्की, सीरया, पकिस्तान और लेबनान के राजनयिको ने हमास को अपना समर्थन दिया है।  
  • घरेलू राजनीति: संघर्ष दोनों पक्षों की घरेलू राजनीति से भी प्रभावित होता है। इज़राइल में, एक मजबूत दक्षिणपंथी लॉबी है जो फ़िलिस्तीनियों के खिलाफ सख्त रुख का समर्थन करता है। फ़िलिस्तीनी क्षेत्रों में, हमास एक शक्तिशाली उग्रवादी समूह है जो इज़राइल के साथ किसी भी समझौते का विरोध करता है।
  • धर्म: संघर्ष धर्म में भी गहराई से निहित है। यहूदी धर्म और इस्लाम दोनों ही प्रमुख धर्म हैं जिनका इस क्षेत्र में एक लंबा इतिहास है, और दोनों पक्ष भूमि पर धार्मिक अधिकार का दावा करते हैं। धार्मिक अतिवाद ने संघर्ष में भूमिका निभाई है, और धार्मिक तनाव

और पढ़ें

इजराइल ने हमास को खत्म करने की कसम खाई

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

0FansLike
0FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -spot_img

Latest Articles